Ab to lagta hai aa jayegi bari meri

उसे बेचैन कर जाऊँगा मैं भी
ख़मोशी से गुज़र जाऊँगा मैं भी

मुझे छूने की ख़्वाहिश कौन करता है
कि पल भर में बिखर जाऊँगा मैं भी

बहुत पछताएगा वो बिछड़ कर
ख़ुदा जाने किधर जाऊँगा मैं भी

ज़रा बदलूंगा इस बे-मंज़री को
फिर उस के बाद मर जाऊँगा मैं भी

किसी दीवार का ख़ामोश साया
पुकारे तो ठहर जाऊँगा मैं भी

पता उस का तुम्हें भी कुछ नहीं है
यहाँ से बे-ख़बर जाऊँगा मैं भी

Read More...

Teri Yaad Aati Nhi Mujhko

उसे बेचैन कर जाऊँगा मैं भी
ख़मोशी से गुज़र जाऊँगा मैं भी

मुझे छूने की ख़्वाहिश कौन करता है
कि पल भर में बिखर जाऊँगा मैं भी

बहुत पछताएगा वो बिछड़ कर
ख़ुदा जाने किधर जाऊँगा मैं भी

ज़रा बदलूंगा इस बे-मंज़री को
फिर उस के बाद मर जाऊँगा मैं भी

किसी दीवार का ख़ामोश साया
पुकारे तो ठहर जाऊँगा मैं भी

पता उस का तुम्हें भी कुछ नहीं है
यहाँ से बे-ख़बर जाऊँगा मैं भी

Read More...

Tujh ko dekha nhi fir bhi sazde kiye

तुम यूँ ही समझना कि फ़ना मेरे लिए है
पर ग़ैब से सामान-ए-बक़ा मेरे लिए है

पैग़ाम मिला था जो हुसैन-इब्न-ए-अली को
ख़ुश हूँ वही पैग़ाम-ए-क़ज़ा मेरे लिए है

ये हूर-ए-बहिश्ती की तरफ़ से है बुलावा
लब्बैक कि मक़्तल का सिला मेरे लिए है

क्यूँ जान न दूँ ग़म में तिरे जब कि अभी से
मातम ये ज़माने में बपा मेरे लिए है

मैं खो के तिरी राह में सब दौलत-ए-दुनिया
समझा कि कुछ इस से भी सिवा मेरे लिए है

तौहीद तो ये है कि ख़ुदा हश्र में कह दे
ये बंदा दो-आलम से ख़फ़ा मेरे लिए है

सुर्ख़ी में नहीं दस्त-ए-हिना-बस्ता भी कुछ कम
पर शोख़ी-ए-ख़ून-ए-शोहदा मेरे लिए है

राहिल हूँ मुसलमान ब-साद-नारा-ए-तकबीर
ये क़ाफ़िला ये बाँग-ए-दरा मेरे लिए है

इनआ’म का उक़्बा के तो क्या पूछना लेकिन
दुनिया में भी ईमाँ का सिला मेरे लिए है

क्यूँ ऐसे नबी पर न फ़िदा हूँ कि जो फ़रमाए
अच्छे तो सभी के हैं बुरा मेरे लिए है

ऐ शाफ़ा-ए-महशर जो करे तू न शफ़ाअत
फिर कौन वहाँ तेरे सिवा मेरे लिए है

अल्लाह के रस्ते ही में मौत आए मसीहा
इक्सीर यही एक दवा मेरे लिए है

ऐ चारागरो चारागरी की नहीं हाजत
ये दर्द ही दारु-ए-शिफ़ा मेरे लिए है

क्या डर है जो हो सारी ख़ुदाई भी मुख़ालिफ़
काफ़ी है अगर एक ख़ुदा मेरे लिए है

जो सोहबत-ए-अग़्यार में इस दर्जा हो बेबाक
उस शोख़ की सब शर्म-ओ-हया मेरे लिए है

है ज़ुल्म तिरा आम बहुत फिर भी सितमगर
मख़्सूस ये अंदाज़-ए-जफ़ा मेरे लिए है

हैं यूँ तो फ़िदा अब्र-ए-सियह पर सभी मय-कश
पर आज की घनघोर घटा मेरे लिए है

Read More...

Ek saal aur beet gya uske bina

पिछले बरस तुम साथ थे मेरे और दिसम्बर था
महके हुए दिन-रात थे मेरे और दिसम्बर था

चाँदनी-रात थी सर्द हवा से खिड़की बजती थी
उन हाथों में हाथ थे मेरे और दिसम्बर था

बारिश की बूंदों से दिल पे दस्तक होती थी
सब मौसम बरसात थे मेरे और दिसम्बर था

भीगी ज़ुल्फ़ें भीगा आँचल नींद थी आँखों में
कुछ ऐसे हालात थे मेरे और दिसम्बर था

धीरे धीरे भड़क रही थी आतिश-दान की आग
बहके हुए जज़्बात थे मेरे और दिसम्बर था

प्यार भरी नज़रों से ‘फ़रह’ जब उस ने देखा था
बस वो ही लम्हात थे मेरे और दिसम्बर था

Read More...

Hai Dil Me ek Baat

है दिल में एक बात जिसे दर-ब-दर कहें
हर चंद उस में जान भी जाए मगर कहें

मश्शात-गान-ए-काकुल-ए-शम्अ’-ख़याल सब
किस को हरीफ़-ए-जल्वा-ए-बर्क़-ए-नज़र कहें

परछाइयाँ भी छोड़ गईं बे-कसी में साथ
अब ऐ शब-ए-हयात किसे हम-सफ़र कहें

फैले ग़ुबार-ए-रंग-ए-दरूँ तो सवाद-ए-शाम
फूटे लहू तो मौज-ए-ख़िराम-ए-सहर कहें

जुज़ हर्फ़-ए-शौक़ किस को कहें गुलशन-ए-समा
जुज़ नक़्श-ए-नाज़ किस को नशीद-ए-नज़र कहें

टोको उन्हें न लग़्ज़िश-ए-गुफ़्तार देख कर
ये लोग वो हैं जिन को ख़ुदा-ए-हुनर कहें

‘उर्फ़ी’ गदा-ए-शहर की सूरत अगर मिले
इक़्लीम-ए-शाइरी का उसे ताजवर कहें

Read More...

Ab dil mar chuka hai

दिल मर चुका है अब न मसीहा बना करो
या हँस पड़ो या हाथ उठा कर दुआ करो

अब हुस्न के मिज़ाज से वाक़िफ़ हुआ हूँ मैं
इक भूल थी जो तुम से कहा था वफ़ा करो

दिल भी सनम-परस्त नज़र भी सनम-परस्त
किस की अदा सहो तो किसे रहनुमा करो

जिस से हुजूम-ए-ग़ैर में होती हैं चश्मकें
उस अजनबी निगाह से भी आश्ना करो

इक सोज़ इक धुआँ है पस-ए-पर्दा-ए-जमाल
तुम लाख शम-ए-बज़्म-ए-रक़ीबाँ बना करो

क़ाएम उसी की ज़ात से है रब्त-ए-ज़िंदगी
ऐ दोस्त एहतिराम-ए-दिल-ए-मुब्तला करो

तक़रीब-ए-इश्क़ है ये दम-ए-वापसीं नहीं
तुम जाओ अपना फ़र्ज़-ए-तग़ाफ़ुल अदा करो

वो बज़्म से निकाल के कहते हैं ऐ ‘ज़हीर’
जाओ मगर क़रीब-ए-रग-ए-जाँ रहा करो

Read More...

Na tu mujhko mila

न तू मिलने के अब क़ाबिल रहा है
न मुज को वो दिमाग़ ओ दिल रहा है

ये दिल कब इश्क़ के क़ाबिल रहा है
कहाँ इस को दिमाग़ ओ दिल रहा है

ख़ुदा के वास्ते इस को न टोको
यही इक शहर में क़ातिल रहा है

नहीं आता इसे तकिया पे आराम
ये सर पाँव से तेरे हिल रहा है

Read More...

Hain usi shahar ki galiyo me kayam

है उसी शहर की गलियों में क़याम अपना भी
एक तख़्ती पे लिखा रहता है नाम अपना भी

भीगती रहती है दहलीज़ किसी बारिश में
देखते देखते भर जाता है जाम अपना भी

एक तो शाम की बे-मेहर हवा चलती है
एक रहता है तिरे कू में ख़िराम अपना भी

कोई आहट तिरे कूचे में महक उठती है
जाग उठता है तमाशा किसी शाम अपना भी

एक बादल ही नहीं बार-ए-गराँ से नालाँ
सरगिराँ रहता है इक ज़ोर कलाम अपना भी

कोई रस्ता मिरे वीराने में आ जाता है
उसी रस्ते से निकलता है दवाम अपना भी

एक दिल है कि जिसे याद हैं बातें अपनी
एक मय है कि जिसे रास है जाम अपना भी

यूँही लोगों के पस-ओ-पेश में चलते चलते
गर्द उड़ती है बिखर जाता है नाम अपना भी

मुब्तला कार-ए-शब-ओ-रोज़ में है शहर ‘नवेद’
और इसी शहर में गुम है कोई काम अपना भी

Read More...

Kis Masti me ab rahta ho

किस मस्ती में अब रहता हूँ
ख़ुद को ख़ुद में ढूँड रहा हूँ

दुनिया में सब से ही जुदा हूँ
आख़िर मैं किस दुनिया का हूँ

मैं तो ख़ुद को भूल चुका हूँ
तुम बतला दो कौन हूँ क्या हूँ

ये भी नहीं है याद मुझे अब
क्यूँ आख़िर रोता रहता हूँ

इक दुनिया है मेरे अंदर
उस में ही मैं घूम रहा हूँ

मुझ को नींद है प्यारी या फिर
उस को भी मैं ही प्यारा हूँ

वो रुख़ अपना फेर चुके हैं
मैं किस को अपना कहता हूँ

इन लफ़्ज़ों ने मंज़िल छीनी
आप चलें मैं अभी आता हूँ

मन तो ख़ुशियाँ बाँट रहा है
मैं क़तरा क़तरा रोता हूँ

ख़ुद का बोझ है कितना ख़ुद पर
कितना ख़ुद को झेल रहा हूँ

मुझ को तुम ‘महताब’ न समझो
शायद मैं उस का साया हूँ

Read More...

dekha jo husn-e-yaar tabiyat machal gai

देखा जो हुस्न-ए-यार तबीअत मचल गई
आँखों का था क़ुसूर छुरी दिल पे चल गई

हम तुम मिले न थे तो जुदाई का था मलाल
अब ये मलाल है कि तमन्ना निकल गई

साक़ी तिरी शराब जो शीशे में थी पड़ी
साग़र में आ के और भी साँचे में ढल गई

दुश्मन से फिर गई निगह-ए-यार शुक्र है
इक फाँस थी कि दिल से हमारे निकल गई

पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर ‘जलील’
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई

Read More...