tere khayal ke diwar-o-dar

तेरे ख़याल के दीवार-ओ-दर बनाते हैं
हम अपने घर में भी तेरा ही घर बनाते हैं

बजाए यौम-ए-मलामत रखा है जश्न मिरा
मिरे भी दोस्त मुझे किस क़दर बनाते हैं

बिखेरते रहो सहरा में बीज उल्फ़त के
कि बीज ही तो उभर कर शजर बनाते हैं

बस अब हिकायत-ए-मज़दूरी-ए-वफ़ा न बना
वो घर उन्हें नहीं मिलते जो घर बनाते हैं

तिरा भी नाम छपा वज्ह-ए-मर्ग-ए-आशिक़ में
ये देख बे-ख़बरे यूँ ख़बर बनाते हैं

वो क्या ख़ुदा की परस्तिश करेंगे मेरी तरह
जो एक बुत भी बहुत सोच कर बनाते हैं

कहा ये किस ने कि है क़स्र-ए-इश्क़ रहन-ए-शबाब
बनाने वाले इसे उम्र-भर बनाते हैं

तू आए तो तिरी कारी-गरी की लाज रहे
हम आज दश्त में रह कर भी घर बनाते हैं

मिली न फ़ुर्सत-ए-आराइश-ए-बयाबाँ भी
कि हम यहाँ भी तिरे बाम-ओ-दर बनाते हैं

अदू हवाओ कराची के लोग हारे नहीं
जो घर गिराओ वो बार-ए-दिगर बनाते हैं

अबु-ज़बी में हमेशा नई ग़ज़ल ‘आली’
ये लोग ही तो तुझे मो’तबर बनाते हैं

Read More...

mai sakde tujhpe ho

मैं सदक़े तुझ पे अदा तेरे मुस्कुराने की
समेटे लेती है रंगीनियाँ ज़माने की

जो ज़ब्त-ए-शौक़ ने बाँधा तिलिस्म-ए-ख़ुद्दारी
शिकायत आप की रूठी हुई अदा ने की

कुछ और जुरअत-ए-दस्त-ए-हवस बढ़ाती है
वो बरहमी जो हो तम्हीद मुस्कुराने की

कुछ ऐसा रंग मिरी ज़िंदगी ने पकड़ा था
कि इब्तिदा ही से तरकीब थी फ़साने की

जलाने वाले जलाते ही हैं चराग़ आख़िर
ये क्या कहा कि हवा तेज़ है ज़माने की

हवाएँ तुंद हैं और किस क़दर हैं तुंद ‘जमील’
अजब नहीं कि बदल जाए रुत ज़माने की

Read More...

badal jate hai dil

बदल जाते हैं दिल हालात जब करवट बदलते हैं
मोहब्बत के तसव्वुर भी नए साँचों में ढलते हैं

तबस्सुम जब किसी का रूह में तहलील होता है
तो दिल की बाँसुरी से नित नए नग़्मे निकलते हैं

मोहब्बत जिन के दिल की धड़कनों को तेज़ रखती है
वो अक्सर वक़्त की रफ़्तार से आगे भी चलते हैं

उजाले के पुजारी मुज़्महिल क्यूँ हैं अंधेरे से
कि ये तारे निगलते हैं तो सूरज भी उगलते हैं

इन्ही हैरत-ज़दा आँखों से देखे हैं वो आँसू भी
जो अक्सर धूप में मेहनत की पेशानी से ढलते हैं

मोहब्बत तो तलब की राह में इक ऐसी ठोकर है
कि जिस से ज़िंदगी की रेत में ज़मज़म उबलते हैं

ग़ुबार-ए-कारवाँ हैं वो न पूछो इज़्तिराब उन का
कभी आगे भी चलते हैं कभी पीछे भी चलते हैं

दिलों के नाख़ुदा उठ कर सँभालें कश्तियाँ अपनी
बहुत से ऐसे तूफ़ाँ ‘मज़हरी’ के दिल में पलते हैं

Read More...

mohabbat hai mujhko tumse

कहो न ये कि मोहब्बत है तीरगी से मुझे
डरा दिया है पतंगों ने रौशनी से मुझे

सफ़ीना शौक़ का अब के जो डूब कर उभरा
निकाल ले गया दरिया-ए-बे-ख़ुदी से मुझे

है मेरी आँख में अब तक वही सफ़र का ग़ुबार
मिला जो राह में सहरा-ए-आगही से मुझे

ख़िरद इन्ही से बनाती है रहबरी का मिज़ाज
ये तजरबे जो मयस्सर हैं गुमरही से मुझे

अभी तो पाँव से काँटे निकालता हूँ मैं
अभी निकाल न गुलज़ार-ए-ज़िंदगी से मुझे

ज़बान-ए-हाल से कहता है नाज़-ए-इश्वा-गरी
हया छुपा न सकी चश्म-ए-मज़हरी से मुझे

बराए दाद-ए-सुख़न कासा-ए-सवाल हो दिल
ख़ुदा बचाए ‘जमील’ इस गदागरी से मुझे

Read More...

tera husn bhi hai bahana

तिरा हुस्न भी बहाना मिरा इश्क़ भी बहाना
ये लतीफ़ इस्तिआरे न समझ सका ज़माना

मैं निसार-ए-दस्त-ए-नाज़ुक जो उठाए नाज़िशाना
कि सँवर गईं ये ज़ुल्फ़ें तो सँवर गया ज़माना

तिरी ज़िंदगी तबस्सुम मिरी ज़िंदगी तलातुम
मिरी ज़िंदगी हक़ीक़त तिरी ज़िंदगी फ़साना

तिरी ज़ुल्फ़-ए-ख़म-ब-ख़म ने नए सिलसिले निकाले
मिरी सीना-चाकियों से जो बना मिज़ाज-ए-शाना

तिरा नाज़-ए-किब्रियाई भी मक़ाम-ए-ग़ौर में है
कि घटा दिया है सज्दों ने वक़ार-ए-आस्ताना

मैं दरून-ए-ख़ाना आ कर भी लिए हूँ दाग़-ए-सज्दा
है अभी मिरी जबीं पर असर-ए-बरून-ए-ख़ाना

कभी राह मैं ने बदली तो ज़मीं का रक़्स बदला
कभी साँस ली ठहर कर तो ठहर गया ज़माना

Read More...

koi to sakl mohabbat me hai

कोई तो शक्ल मोहब्बत में साज़गार आए
हँसी नहीं है तो रोने से ही क़रार आए

है एक ने’मत-ए-उज़मा ग़म-ए-मोहब्बत भी
मगर ये शर्त कि इंसाँ को साज़गार आए

जुनून-ए-दश्त-पसंदी बताए देता है
गुज़ारनी थी जो घर में वो हम गुज़ार आए

गुज़ारनी है मुझे उम्र तेरे क़दमों में
मुझे न क्यूँ तिरे वा’दों पे ए’तिबार आए

तुम्हारी बज़्म से आ कर वही ख़याल रहा
हम एक बार गए तुम हज़ार बार आए

निगाह-ए-दोस्त कोई और बात है वर्ना
तू बे-क़रार करे और मुझे क़रार आए

है मुतमइन भी तो किस किस उमीद-ओ-बीम के साथ
वो ना-मुराद जिसे लुत्फ़-ए-इंतिज़ार आए

बता गई है जो मुझ को वो बे-क़रार निगाह
न कह सकूँगा अगर आज भी क़रार आए

ये इम्तियाज़ है ‘ग़ालिब’ के बा’द ‘आली’ का
कि जिस पे आप मरे हैं उसे भी मार आए

Read More...

mujhe tera intizaar hai

बहुत दिनों से मुझे तेरा इंतिज़ार है आ जा
और अब तो ख़ास वही मौसम-ए-बहार है आ जा

कहाँ ये होश कि उस्लूब-ए-ताज़ा से तुझे लिखूँ
कि रूह तेरे लिए सख़्त बे-क़रार है आ जा

गुज़र चली हैं बहुत ग़म की शोरिशें भी हदों से
मगर अभी तो तिरा सब पे इख़्तियार है आ जा

वो तेरी याद कि अब तक सुकून-ए-क़ल्ब-ए-तपाँ थी
तिरी क़सम है कि अब वो भी नागवार है आ जा

ग़ज़ल के शिकवे ग़ज़ल के मुआ’मलात जुदा हैं
मिरी ही तरह से तो भी वफ़ा-शिआ’र है आ जा

बदल रहा हो ज़माना मगर जहान-ए-तमन्ना
तिरे लिए तो अबद तक भी साज़गार है आ जा

हज़ार तरह के अफ़्कार दिल को रौंद रहे हैं
मुक़ाबले में तिरे रंज-ए-रोज़गार है आ जा

Read More...

haqiqt ko fasana bana dala

हक़ीक़तों को फ़साना बना के भूल गया
मैं तेरे इश्क़ की हर चोट खा के भूल गया

ज़रा ये दूरी-ए-एहसास-ए-हुस्न-ओ-इश्क़ तो देख
कि मैं तुझे तिरे नज़दीक आ के भूल गया

अब उस से बढ़ के भी वारुफ़्तगी-ए-दिल क्या हो
कि तुझ को ज़ीस्त का हासिल बना के भूल गया

गुमान जिस पे रहा मंज़िलों का इक मुद्दत
वो रहगुज़ार भी मंज़िल में आ के भूल गया

अब ऐसी हैरत-ओ-वारफ़्तगी को क्या कहिए
दुआ को हाथ उठाए उठा के भूल गया

दिल-ओ-जिगर हैं कि गर्मी से पिघले जाते हैं
कोई चराग़-ए-तमन्ना जला के भूल गया

Read More...

ye hai meri kab naseebi

वही मेरी कम-नसीबी वही तेरी बे-नियाज़ी
मिरे काम कुछ न आया ये कमाल-ए-नै-नवाज़ी

मैं कहाँ हूँ तू कहाँ है ये मकाँ कि ला-मकाँ है
ये जहाँ मिरा जहाँ है कि तिरी करिश्मा-साज़ी

इसी कश्मकश में गुज़रीं मिरी ज़िंदगी की रातें
कभी सोज़-ओ-साज़-ए-‘रूमी’ कभी पेच-ओ-ताब-ए-‘राज़ी’

वो फ़रेब-ख़ुर्दा शाहीं कि पला हो करगसों में
उसे क्या ख़बर कि क्या है रह-ओ-रस्म-ए-शाहबाज़ी

न ज़बाँ कोई ग़ज़ल की न ज़बाँ से बा-ख़बर मैं
कोई दिल-कुशा सदा हो अजमी हो या कि ताज़ी

नहीं फ़क़्र ओ सल्तनत में कोई इम्तियाज़ ऐसा
ये सिपह की तेग़-बाज़ी वो निगह की तेग़-बाज़ी

कोई कारवाँ से टूटा कोई बद-गुमाँ हरम से
कि अमीर-ए-कारवाँ में नहीं ख़ू-ए-दिल-नवाज़ी

Read More...

moziza aisa bhi hota hai

इरादा हो अटल तो मोजज़ा ऐसा भी होता है
दिए को ज़िंदा रखती है हवा ऐसा भी होता है

सुनाई दे न ख़ुद अपनी सदा ऐसा भी होता है
मियाँ तंहाई का इक सानेहा ऐसा भी होता है

छिड़े हैं तार दिल के ख़ाना-बर्बादी के नग़्मे हैं
हमारे घर में साहिब रत-जगा ऐसा भी होता है

बहुत हस्सास होने से भी शक को राह मिलती है
कहीं अच्छा तो लगता है बुरा ऐसा भी होता है

किसी मासूम बच्चे के तबस्सुम में उतर जाओ
तो शायद ये समझ पाओ ख़ुदा ऐसा भी होता है

ज़बाँ पर आ गए छाले मगर ये तो खुला हम पर
बहुत मीठे फलों का ज़ाइक़ा ऐसा भी होता है

Read More...