khuda jane jalwa-e-jana kaha tak hai

क़फ़स की तीलियों से ले के शाख़-ए-आशियाँ तक है
मिरी दुनिया यहाँ से है मिरी दुनिया वहाँ तक है

ज़मीं से आसमाँ तक आसमाँ से ला-मकाँ तक है
ख़ुदा जाने हमारे इश्क़ की दुनिया कहाँ तक है

ख़ुदा जाने कहाँ से जल्वा-ए-जानाँ कहाँ तक है
वहीं तक देख सकता है नज़र जिस की जहाँ तक है

कोई मर कर तो देखे इम्तिहाँ-गाह-ए-मोहब्बत में
कि ज़ेर-ए-ख़ंजर-ए-क़ातिल हयात-ए-जावेदाँ तक है

नियाज़-ओ-नाज़ की रूदाद-ए-हुस्न-ओ-इश्क़ का क़िस्सा
ये जो कुछ भी है सब उन की हमारी दास्ताँ तक है

क़फ़स में भी वही ख़्वाब-ए-परेशाँ देखता हूँ मैं
कि जैसे बिजलियों की रौ फ़लक से आशियाँ तक है

ख़याल-ए-यार ने तो आते ही गुम कर दिया मुझ को
यही है इब्तिदा तो इंतिहा उस की कहाँ तक है

जवानी और फिर उन की जवानी ऐ मआज़-अल्लाह
मिरा दिल क्या तह-ओ-बाला निज़ाम-ए-दो-जहाँ तक है

हम इतना भी न समझे अक़्ल खोई दिल गँवा बैठे
कि हुस्न-ओ-इश्क़ की दुनिया कहाँ से है कहाँ तक है

वो सर और ग़ैर के दर पर झुके तौबा मआज़-अल्लाह
कि जिस सर की रसाई तेरे संग-ए-आस्ताँ तक है

ये किस की लाश बे-गोर-ओ-कफ़न पामाल होती है
ज़मीं जुम्बिश में है बरहम निज़ाम-ए-आसमाँ तक है

जिधर देखो उधर बिखरे हैं तिनके आशियाने के
मिरी बर्बादियों का सिलसिला या-रब कहाँ तक है

न मेरी सख़्त-जानी फिर न उन की तेग़ का दम-ख़म
मैं उस के इम्तिहाँ तक हूँ वो मेरे इम्तिहाँ तक है

ज़मीं से आसमाँ तक एक सन्नाटे का आलम है
नहीं मालूम मेरे दिल की वीरानी कहाँ तक है

सितमगर तुझ से उम्मीद-ए-करम होगी जिन्हें होगी
हमें तो देखना ये था कि तू ज़ालिम कहाँ तक है

नहीं अहल-ए-ज़मीं पर मुनहसिर मातम शहीदों का
क़बा-ए-नील-गूँ पहने फ़ज़ा-ए-आसमाँ तक है

सुना है सूफ़ियों से हम ने अक्सर ख़ानक़ाहों में
कि ये रंगीं-बयानी ‘बेदम’-ए-रंगीं-बयाँ तक है

क़फ़स की तीलियों से ले के शाख़-ए-आशियाँ तक

Read More...

mai gash me ho muhe nhi hosh

में ग़श में हूँ मुझे इतना नहीं होश
तसव्वुर है तिरा या तू हम-आग़ोश

जो नालों की कभी वहशत ने ठानी
पुकारा ज़ब्त बस ख़ामोश ख़ामोश

किसे हो इम्तियाज़-ए-जल्वा-ए-यार
हमें तो आप ही अपना नहीं होश

उठा रक्खा है इक तूफ़ान तू ने
अरे क़तरे तिरा अल्लाह-रे जोश

मैं ऐसी याद के क़ुर्बान जाऊँ
किया जिस ने दो-आलम को फ़रामोश

है बेगानों से ख़ाली ख़ल्वत-ए-राज़
चले जाएँ न अब आएँ मिरे होश

करो रिंदो गुनाह-ए-मय-परस्ती
कि साक़ी है अता-पाश ओ ख़ता-पोश

तिरे जल्वे को मूसा देखते क्या
नक़ाब उठने से पहले उड़ गए होश

करम भी उस का मुझ पर है सितम भी
कि पहलू में है ज़ालिम और रू-पोश

पियो तो ख़ुम के ख़ुम पी जाओ ‘बेदम’
अरे मय-नोश हो तुम या बला-नोश

Read More...

dil liya jaan li nhi jati Urdu ghazal | hindi Ghazal – ghazal

दिल लिया जान ली नहीं जाती
आप की दिल-लगी नहीं जाती

सब ने ग़ुर्बत में मुझ को छोड़ दिया
इक मिरी बेकसी नहीं जाती

किए कह दूँ कि ग़ैर से मिलिए
अन-कही तो कही नहीं जाती

ख़ुद कहानी फ़िराक़ की छेड़ी
ख़ुद कहा बस सुनी नहीं जाती

ख़ुश्क दिखलाती है ज़बाँ तलवार
क्यूँ मिरा ख़ून पी नहीं जाती

लाखों अरमान देने वालों से
एक तस्कीन दी नहीं जाती

जान जाती है मेरी जाने दो
बात तो आप की नहीं जाती

तुम कहोगे जो रोऊँ फ़ुर्क़त में
कि मुसीबत सही नहीं जाती

उस के होते ख़ुदी से पाक हूँ मैं
ख़ूब है बे-ख़ुदी नहीं जाती

पी थी ‘बेदम’ अज़ल में कैसी शराब
आज तक बे-ख़ुदी नहीं जाती

Read More...

sahara maujo ka le le ke bad raha ho

सहारा मौजों का ले ले के बढ़ रहा हूँ मैं
सफ़ीना जिस का है तूफ़ाँ वो नाख़ुदा हूँ मैं

ख़ुद अपने जल्वा-ए-हस्ती का मुब्तला हूँ मैं
न मुद्दई हूँ किसी का न मुद्दआ हूँ मैं

कुछ आगे आलम-ए-हस्ती से गूँजता हूँ मैं
कि दिल से टूटे हुए साज़ की सदा हूँ मैं

पड़ा हुआ हूँ जहाँ जिस तरह पड़ा हूँ मैं
जो तेरे दर से न उठ्ठे वो नक़्श-ए-पा हूँ मैं

जहान-ए-इश्क़ में गो पैकर-ए-वफ़ा हूँ मैं
तिरी निगाह में जब कुछ नहीं तो क्या हूँ मैं

तजल्लियात की तस्वीर खींच कर दिल में
तसव्वुरात की दुनिया बसा रहा हूँ मैं

जुनून-ए-इश्क़ की नैरंगियाँ अरे तौबा
कभी ख़ुदा हूँ कभी बंदा-ए-ख़ुदा हूँ मैं

बदलती रहती है दुनिया मिरे ख़यालों की
कभी मिला हूँ कभी यार से जुदा हूँ मैं

हयात ओ मौत के जल्वे हैं मेरी हस्ती में
तग़य्युरात-ए-दो-आलम का आइना हूँ मैं

तिरी अता के तसद्दुक़ तिरे करम के निसार
कि अब तो अपनी नज़र में भी दूसरा हूँ मैं

बक़ा की फ़िक्र न अंदेशा-ए-फ़ना मुझ को
तअय्युनात की हद से गुज़र गया हूँ मैं

मुझी को देख लें अब तेरे देखने वाले
तू आइना है मिरा तेरा आईना हूँ मैं

मैं मिट गया हूँ तो फिर किस का नाम है ‘बेदम’
वो मिल गए हैं तो फिर किस को ढूँढता हूँ मैं

Read More...