Raushan jamal-e-yar

रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम
दहका हुआ है आतिश-ए-गुल से चमन तमाम

हैरत ग़ुरूर-ए-हुस्न से शोख़ी से इज़्तिराब
दिल ने भी तेरे सीख लिए हैं चलन तमाम

अल्लाह-री जिस्म-ए-यार की ख़ूबी कि ख़ुद-ब-ख़ुद
रंगीनियों में डूब गया पैरहन तमाम

दिल ख़ून हो चुका है जिगर हो चुका है ख़ाक
बाक़ी हूँ मैं मुझे भी कर ऐ तेग़-ज़न तमाम

देखो तो चश्म-ए-यार की जादू-निगाहियाँ
बेहोश इक नज़र में हुई अंजुमन तमाम

है नाज़-ए-हुस्न से जो फ़रोज़ाँ जबीन-ए-यार
लबरेज़ आब-ए-नूर है चाह-ए-ज़क़न तमाम

नश-ओ-नुमा-ए-सब्ज़ा-ओ-गुल से बहार में
शादाबियों ने घेर लिया है चमन तमाम

उस नाज़नीं ने जब से किया है वहाँ क़याम
गुलज़ार बन गई है ज़मीन-ए-दकन तमाम

अच्छा है अहल-ए-जौर किए जाएँ सख़्तियाँ
फैलेगी यूँ ही शोरिश-ए-हुब्ब-ए-वतन तमाम

समझे हैं अहल-ए-शर्क़ को शायद क़रीब-ए-मर्ग
मग़रिब के यूँ हैं जमा ये ज़ाग़ ओ ज़ग़न तमाम

शीरीनी-ए-नसीम है सोज़-ओ-गदाज़-ए-‘मीर’
‘हसरत’ तिरे सुख़न पे है लुत्फ़-ए-सुख़न तमाम

Read More...

Aasan-e-haqiqi hai

आसान-ए-हक़ीकी है न कुछ सहल-ए-मजाज़ी
मालूम हुई राह-ए-मोहब्बत की दराज़ी

कुछ लुत्फ़ ओ नज़र लाज़िम ओ मलज़ूम नहीं हैं
इक ये भी तमन्ना की न हो शोबदा बाज़ी

दिल ख़ूब समझता है तिरे हर्फ़-ए-करम को
हर-चंद वो उर्दू है न तुर्की है न ताज़ी

क़ाइम है न वो हुस्न-ए-रुख़-ए-यार का आलम
बाक़ी है न वो शौक़ की हंगामा-नवाज़ी

ऐ इश्क़ तिरी फ़तह बहर-हाल है साबित
मर कर भी शहीदान-ए-मोहब्बत हुए ग़ाज़ी

कर जल्द हमें ख़त्म कहीं ऐ ग़म-ए-जानाँ
काम आएगी किस रोज़ तिरी सीना-गुदाज़ी

मालूम है दुनिया को ये ‘हसरत’ की हक़ीक़त
ख़ल्वत में वो मय-ख़्वार है जल्वत में नमाज़ी

Read More...

Jab se tu ne mujhe diwana

जब से तू ने मुझे दीवाना बना रक्खा है
संग हर शख़्स ने हाथों में उठा रक्खा है

उस के दिल पर भी कड़ी इश्क़ में गुज़री होगी
नाम जिस ने भी मोहब्बत का सज़ा रक्खा है

पत्थरो आज मिरे सर पे बरसते क्यूँ हो
मैं ने तुम को भी कभी अपना ख़ुदा रक्खा है

अब मिरी दीद की दुनिया भी तमाशाई है
तू ने क्या मुझ को मोहब्बत में बना रक्खा है

पी जा अय्याम की तल्ख़ी को भी हँस कर ‘नासिर’
ग़म को सहने में भी क़ुदरत ने मज़ा रक्खा है

Read More...

Apne har har lafz ka Waseem Barelvi. waseen barelvi Shayari.

अपने हर हर लफ़्ज़ का ख़ुद आईना हो जाऊँगा
उस को छोटा कह के मैं कैसे बड़ा हो जाऊँगा

तुम गिराने में लगे थे तुम ने सोचा ही नहीं
मैं गिरा तो मसअला बन कर खड़ा हो जाऊँगा

मुझ को चलने दो अकेला है अभी मेरा सफ़र
रास्ता रोका गया तो क़ाफ़िला हो जाऊँगा

सारी दुनिया की नज़र में है मिरा अहद-ए-वफ़ा
इक तिरे कहने से क्या मैं बेवफ़ा हो जाऊँगा

Read More...

Lazazat-e-ishq-o-mohabbat

लज़्ज़त-ए-इश्क़-ओ-मुहब्बत ठोकरें खाने में है,
सर-बुलन्दी इश्क़ की नाकाम रह जाने में है..

सुनने वाले इस तरह सुनते हैं दिल को थाम कर,
दर्द दुनिया भर का जैसे मेरे अफ़साने में है..

क्यूँ ज़बान-ए-एहले आलम पे हो मेरी दास्ताँ,
कामयाबी ज़िन्दगी की राज़ बन जाने में है..

अब वो आयें या ना आयें ये तो है मेरा नसीब,
इक तसव्वुर उन का मेरे दिल के काशाने में है..

ख़ंजर-ए-क़ातिल तिरी अब और क्या ख़ातिर करूँ,
अम्बर-ए-नाशाद का ख़ूँ तेरे नज़राने में है..!!

Read More...

Aseero Ke Mushkil Kusha Ghaus e Aazam Naat

Aseero Ke Mushkil Kusha Gaus e Aazam
Faqeeron Ke Haajat Rawaa Gaus e Aazam

Ghira Hai Balaaoñ Meiñ Bandaa Tumhara
Madad Ke Liye Aao Ya Gaus E Aazam

Tere Haath Meiñ Haath Maine Diya Hai
Tere Haath Hai Laaj Ya Gaus E Azam

Mureedoñ Ko Khatra Nahiñ Behre Gam Se
Ke Bede Ke Haiñ Naakhuda Gaus E Azam

Tumheeñ Dukh Suno Apne Aafat Zadoñ Ka
Tumheeñ Dard Ki Do Dawa Gaus E Aazam

Bhañwar Meiñ Phansa Hai Hamara Safeena
Bachaa Gaus E Aazam Bachaa Gaus E Aazam

Jo Dukh Bhar Rahaa Hooñ Jo Gam Seh Rahaa Hooñ
Kahooñ Kis Se Tere Siwa Gaus E Aazam

Zamaane Ke Dukh Dard Ki Ranj O Gam Ki
Tere Haath Meiñ Hai Dawaa Gaus E Azam

Agar Sultanat Ki Hawas Ho Faqeeroñ
Kaho “Shai Al Lillah” Ya Gaus E Aazam

Nikaala Hai Pehle Tho Doobe Huwoñ Ko
Aur Ab Doobtoñ Ko Bacha Gaus E Aazam

Jise Khalq Kehti Hai Pyaara Khuda Ka
Usi Ka Hai Thu Laadla Gaus E Aazam

Phañsa Hai Tabaahi Meiñ Beda Hamaara
Sahara Lagaa Dhu Zara Ghous E Aazam

Mashaaikh Jahaañ Aaye Bahr E Gadaai
Wo Hai Teri Daulat Saraa Gaus E Aazam

Meri Mushkiloñ Ko Bhi Aasan Kijiye
Ke Haiñ Aap Mushkil Kusha Gaus E Aazam

Wahaañ Sar Jhukaate Haiñ Sab Uñche Uñche
Jahaañ Hai Tera Naqsh E Paa Gaus E Aazam

Qasam Hai Ke Mushkil Ko Mushkil Na Paaya
Kaha Hum Ne Jis Waqt Yaa Gaus E Aazam

Muje Apni Ulfat Meiñ Aisaa Guma De
Na Paaoñ Phir Apna Pataa Gaus E Aazam

Bachaale Gulaamoñ Ko Majbooriyoñ Se
Ke Tu Abd E Qaadir Hai Yaa Gaus E Aazam

Jo Dukh Bhar Rahaa Hooñ Jo Gam Seh Rahaa Hooñ
Kahooñ Kis Se Tere Siwa Gaus E Aazam

Kahe Kis Se Jaakar HASAN Apne Dil Ki
Suney Kaun Tere Siwaa Gaus E Aazam

Read More...

Muhammad naam pe Qurban meri Jaan ho jaey

Muhammad naam pe Qurban meri Jaan ho jaey
Isi ke Sadqay mein Kaamil mera Iman ho jaey

Mere Mushkil kusha Hasanain ka Sadqa Ata kar de
Balaen door hon Mushkil Meri Aasan ho jaey

Mere Aamal ka badla tabahi hay magar piyaray
Mein Jannat ko sidharon jo tera farmaan ho jaey

Madinay Paak ke kutton ki khidmat ka sharaf paaon
Sagaan-e-Taybah ka Khadim, meri pehchan ho jaey

Mein jaun daar-e-faani se mera Emaan Salamat ho
Teri chahat teri Ulfat mera Saman ho jaey

Mere Shafay’ sawali hun Nijaat-e-Aakhirat ka mein
Sar-e-Mehshar Shafa’at ka teri Aey’laan ho jaey

Mein hun Sunni, rahun sunni, jeeun sunni, marun sunni
Karam Aey Sayyid-e-Aalam tera Ihsaan ho jaey

Teri Naatien parrhun teri Sana mein Mast ho jaon
Paey Akhtar Nigaah-e-Hazrat-e-Hassan ho jaey

Teri Madh-o-Sana sunn kar sarray munkir karay maatam
Magar jab bhi koi Sunni sunay Farhaan ho jaey

Khurooj-o-Rafz ke Shar se mera aur meri Naslon ka
Salamat deen-o-Iman Aey Mere Sultan ho jaey

Mein Baghdad-e-Mu’alla aanay ko tayyar hun kab se
Izn bas Haazri ka az Shah e Jeelan ho jaey

Bareilly Hziri dun phr Chaloon Ajmer ko Khwajah
Raza ke Faiz se mujh par tera faizan ho jaey

Mere Ghous o Raza ka, mere Khwaja, mere Daata ka
Mere Murshid ka Mujh pe Daaimi Faizan ho jaey

Meri Naslain chalain Raah e Sunan par taa Dam e Aakhir
Meri Aulaad Aaqa Aalim-e-Quran ho jaey

Karam karna karam walay bharam rakhna bharam walay
Teri Namoos pe Qurban yeh Irfan ho jaey

Read More...