bya bya ki tui

बया बया कि तुई जान-ए- जान-ए- जान-ए- समा’
बया कि सर्वे रवानी बबोस्तान-ए- समा’

समा’ बंदए वक़्त-ए– तू बाशद ऐ मेहतर
ज़े वजद-ए- ख़्वेश दर आई तू दर्मेयान-ए- समा’

बरूँ ज़े हर दो जहां आ चू दर समा’ आई
बरूँ ज़े हर दो जहां अस्त ईँ जहान-ए- समा’

बया कि रौनक़-ए- बाज़ार-ए- इश्क़ अज़ लब-ए- तुस्त
के शाहिदीस्त निहानी दर ईँ दुकान-ए- समा’

बया कि सुरत-ए- इश्क़स्त शम्स-ए- तबरेज़ी
कि बाज़ मांद ज़े इश्क़श लब-ओ- देहान-ए- समा’

Read More...

ma khazin-e-khazana

मा ख़ाज़िन-ए- ख़ज़ान:-ए- असरार बुद: ऐम
मा साल्हा मुसाहिब-ए- दिलदार बुद: ऐम

मा रख़त-ए- ख़ुद ज़ आ’लम-ए- हस्ती कशीद: ऐम
दर कुए यार बे ग़म-ए- अग़यार बुद: ऐम

आदम हनूज़ दर अ’दम आबाद बुद कि मा
मस्त-ओ- ख़राब-ए- नर्गिस-ए- आँ यार बुद: ऐम

दर गुलशन-ए- विसाल बचन्दीँ हज़ार साल
पेश अज़ दो कौन ताएर-ए- तैय्यार बुद: ऐम

अज़ जाम-ए- इश्क़ बाद:-ए- वहदत कशीद: ऐम
फ़ारिग़ ज़े साक़ी-ओ- मय-ओ- ख़म्मार बुद: ऐम

Read More...

aarju daram ki mehmanat

आरज़ू दारम कि मेहमानत कुनम
जान-ओ- दिल ऐ दोस्त क़ुर्बानत कुनम

हीं क़िराअत कम कुन व ख़ामोश बाश
ता बख़्वानम ऐ’न क़ुरआनत कुनम

गर तू तर्क-ए- सर कुनी मरदान: वार
हमचु इस्माईल क़ुर्बानत कुनम

गर यक़ीन दानम कि बर मन आ’शिक़ी
अज़ जमाल-ए- ख़्वेश हैरानत कुनम

गर तू अफ़लातून -ओ- लुक़मानी बइ’ल्म
मन ब यक दीदार-ए- नादानत कुनम

शम्स तबरेज़ी ब मौलाना बगो
दफ़्तर-ए- असरार-ए- दीवानत कुनम

Read More...

dar ishq n jismam-o-n janam

दर इश्क़ न जिस्मम-ओ- न जानम
चीज़े अ’जबम न ईँ न आनम

हर जा कि रवम ख़राब-ए- इश्क़म
मन का’बा-ओ- बुत्कद: न दानम

ऊ बेशक -ओ- बे गुमाँ यक़ीन अस्त
मन बे शक-ओ- बेगुमाँ गुमानम

मन जाम-ए- जहां नुमाए इश्क़म
मन मर्दुम-ए- दीद:-ए -जहानम

हम सूरत-ए- आफ़ताब-ए- ज़ातम
हम मा’नी-ए- सिर्र-ए- कुन फ़कानम

अफ़्जूं ज़े ज़मान-ओ- दर ज़मानम
बेरूं ज़े मकान-ओ- दर मकानम

मन बे ख़बर अज़ निशान-ओ- नामम
बिल्लाह मतलब-ए- दीगर निशानम

हम साय:-ए- आफ़ताब-ए- ज़ातम
हम मौज-ए- मुहीत-ए- बेकरानम

चूँ शम्स ज़े परतवे कि दारम
गह ज़ाहिरम -ओ- गहे निहानम

Read More...