jo batan se nikal gya bo dil se gya Hindi Ghazal | Urdu Ghazal.

पूछा न जाएगा जो वतन से निकल गया
बे-कार है जो दाँत दहन से निकल गया

ठहरें कभी कजों में न दम भर भी रास्त-रौ
आया कमाँ में तीर तो सन से निकल गया

ख़िलअ’त पहन के आने की थी घर में आरज़ू
ये हौसला भी गोर-ओ-कफ़न से निकल गया

पहलू में मेरे दिल को न ऐ दर्द कर तलाश
मुद्दत हुई ग़रीब वतन से निकल गया

मुर्ग़ान-ए-बाग़ तुम को मुबारक हो सैर-ए-गुल
काँटा था एक मैं सो चमन से निकल गया

क्या रंग तेरी ज़ुल्फ़ की बू ने उड़ा दिया
काफ़ूर हो के मुश्क ख़ुतन से निकल गया

प्यासा हूँ इस क़दर कि मिरा दिल जो गिर पड़ा
पानी उबल के चाह-ए-ज़क़न से निकल गया

सारा जहान नाम के पीछे तबाह है
इंसान किया अक़ीक़-ए-यमन से निकल गया

काँटों ने भी न दामन-ए-गुलचीं पकड़ लिया
बुलबुल को ज़ब्ह कर के चमन से निकल गया

क्या शौक़ था जो याद सग-ए-यार ने किया
हर उस्तुख़्वाँ तड़प के बदन से निकल गया

ऐ सब्ज़ा रंग-ए-ख़त भी बना अब तो बोसा दे
बेगाना था जो सब्ज़ा चमन से निकल गया

मंज़ूर इश्क़ को जो हुआ औज-ए-हुस्न पर
कुमरी का नाला सर्व-ए-चमन से निकल गया

मद्द-ए-नज़र रही हमें ऐसी रज़ा-ए-दोस्त
काटी ज़बाँ जो शिकवा दहन से निकल गया

ताऊस ने दिखाए जो अपने बदन के दाग़
रोता हुआ सहाब चमन से निकल गया

सहरा में जब हुई मुझे ख़ुश-चश्मों की तलाश
कोसों मैं आहुवान-ए-ख़ुतन से निकल गया

ख़ंजर खिंचा जो म्यान से चमका मियान-ए-सफ़
जौहर खुले जो मर्द वतन से निकल गया

में शेर पढ़ के बज़्म से किया उठ गया ‘अमीर’
बुलबुल चहक के सेहन-ए-चमन से निकल गया

क्या रंग तेरी ज़ुल्फ़ की बू ने उड़ा दिया
काफ़ूर हो के मुश्क ख़ुतन से निकल गया

प्यासा हूँ इस क़दर कि मिरा दिल जो गिर पड़ा
पानी उबल के चाह-ए-ज़क़न से निकल गया

सारा जहान नाम के पीछे तबाह है
इंसान किया अक़ीक़-ए-यमन से निकल गया

Read More...

sarakti jaye hai nakab ahishta ahishta

सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता
निकलता आ रहा है आफ़्ताब आहिस्ता आहिस्ता

जवाँ होने लगे जब वो तो हम से कर लिया पर्दा
हया यक-लख़्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता

शब-ए-फ़ुर्क़त का जागा हूँ फ़रिश्तो अब तो सोने दो
कभी फ़ुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता

सवाल-ए-वस्ल पर उन को अदू का ख़ौफ़ है इतना
दबे होंटों से देते हैं जवाब आहिस्ता आहिस्ता

वो बेदर्दी से सर काटें ‘अमीर’ और मैं कहूँ उन से
हुज़ूर आहिस्ता आहिस्ता जनाब आहिस्ता आहिस्ता

Read More...

dil seene me hai dildaar kaha hai

दिल सीने में बेताब है दिलदार किधर है
कुइ मुझ को बता दो वो मिरा यार किधर है

हम कब के चमन-ज़ार में बेहोश पड़े हैं
मालूम नहीं गुल किधर और ख़ार किधर है

उस गुल का पता गर नहीं देते हो तो यारो
इतना तो बता दो दर-ए-गुलज़ार किधर है

दिल छीनने वाले कोई घर बैठ रहें हैं
पूछें हैं यही रस्ता-ए-बाज़ार किधर है

देखा मुझे कल उस ने तो ग़ैरों से ये बोला
लाओ भी शिताबी मिरी तलवार किधर है

याँ हो रहा है सीना मिरा आगू ही छलनी
ढूँडे है कहाँ तीर को सोफ़ार किधर है

अहवाल निपट तंग है बीमार का तेरे
इस वक़्त तू ऐ आईना-रुख़्सार किधर है

शीरीं-सुख़नाँ सब ही शुक्र बेचें हैं लेकिन
इंसाफ़ करो जोश-ए-ख़रीदार किधर है

बरसों न मिले उस से तो उस शोख़ ने हम को
पूछा न कभी ‘मुसहफ़ी’-ए-ज़ार किधर है

Read More...

maar kar teer bo dilbar gya

मार कर तीर जो वो दिलबर-ए-जानी माँगे
कह दो हम से न कोई दे के निशानी माँगे

ऐ सनम देख के हर दम की तिरी कम-सुख़नी
मौत घबरा के न क्यूँ ये ख़फ़क़ानी माँगे

ख़ाक से तिश्ना-ए-दीदार के सब्ज़ा जो उठे
तो ज़बाँ अपनी निकाले हुए पानी माँगे

मार-ए-पेचाँ तो बला हैगा मगर तू ऐ ज़ुल्फ़
है वो काफ़िर कि न काटा तिरा पानी माँगे

दहन-ए-यार हो और माँगे किसी से दिल को
वो जो माँगे तो ब-अंदाज़-ए-निहानी माँगे

दिल मिरा बोसा-ब-पैग़ाम नहीं है हमदम
यार लेता है तो ले अपनी ज़बानी माँगे

जल्वा उस आलम-ए-मअ’नी का जो देखे ऐ ‘ज़ौक़’
लुत्फ़-ए-अल्फ़ाज़ न बे-हुस्न-ए-मआनी माँगे

Read More...

nigah ka baar to ho gya

निगह का वार था दिल पर फड़कने जान लगी
चली थी बरछी किसी पर किसी के आन लगी

तिरा ज़बाँ से मिलाना ज़बाँ जो याद आया
न हाए हाए में तालू से फिर ज़बान लगी

किसी के दिल का सुनो हाल दिल लगा कर तुम
जो होवे दिल को तुम्हारे भी मेहरबान लगी

तो वो है माह-जबीं मिस्ल-ए-दीदा-ए-अंजुम
रहे है तेरी तरफ़ चश्म-ए-यक-जहान लगी

ख़ुदा करे कहे तुझ से ये कुछ ख़ुदा-लगती
कि ज़ुल्फ़ ऐ बुत-ए-बद-केश तेरे कान लगी

उड़ाई हिर्स ने आ कर जहाँ में सब की ख़ाक
नहीं है किस को हवा ज़ेर-ए-आसमान लगी

किसी की काविश-ए-मिज़्गाँ से आज सारी रात
नहीं पलक से पलक मेरी एक आन लगी

तबाह बहर-ए-जहाँ में थी अपनी कश्ती-ए-उम्र
सो टूट-फूट के बारे किनारे आन लगी

तुम्हारे हाथ से सीने में दिल से ता-बा-जिगर
सिनान ओ ख़ंजर ओ पैकाँ की है दुकान लगी

ख़दंग-ए-यार मिरे दिल से किस तरह निकले
कि उस के साथ है ऐ ‘ज़ौक़’ मेरी जान लगी

Read More...

la sakiya pyala tauba ka kul hua

महफ़िल में शोर-ए-क़ुलक़ुल-ए-मीना-ए-मुल हुआ
ला साक़िया प्याला कि तौबा का क़ुल हुआ

जिन की नज़र चढ़ा तिरा रुख़्सार-ए-आतिशीं
उन का चराग़-ए-गोर न ता-हश्र गुल हुआ

बंदा-नवाज़ियाँ तो ये देखो कि आदमी
जुज़्व-ए-ज़ईफ़ महरम-ए-असरार-ए-कुल हुआ

दरिया-ए-ग़म से मेरे गुज़रने के वास्ते
तेग़-ए-ख़मीदा यार की लोहे का पुल हुआ

परवाना भी था गर्म-ए-तपिश पर खुला न राज़
बुलबुल की तंग-हौसलगी थी कि ग़ुल हुआ

आई तही-दरों की न हरगिज़ समझ में बात
आवाज़ा गो बुलंद मिसाल-ए-दुहुल हुआ

उस बिन रहा चमन में भी मैं ‘ज़ौक़’ दिल-ख़राश
नाख़ुन से तेज़-तर मुझे हर बर्ग-ए-गुल हुआ

Read More...

mere seene se tera teer nikla

मिरे सीने से तेरा तीर जब ऐ जंग-जू निकला
दहान-ए-ज़ख़्म से ख़ूँ हो के हर्फ़-ए-आरज़ू निकला

मिरा घर तेरी मंज़िल-गाह हो ऐसे कहाँ तालए
ख़ुदा जाने किधर का चाँद आज ऐ माह-रू निकला

फिरा गर आसमाँ तो शौक़ में तेरे है सरगर्दां
अगर ख़ुर्शीद निकला तेरा गर्म-ए-जुस्तुजू निकला

मय-ए-इशरत तलब करते थे नाहक़ आसमाँ से हम
वो था लबरेज़-ए-ग़म इस ख़ुम-कदे से जो सुबू निकला

तिरे आते ही आते काम आख़िर हो गया मेरा
रही हसरत कि दम मेरा न तेरे रू-ब-रू निकला

कहीं तुझ को न पाया गरचे हम ने इक जहाँ ढूँडा
फिर आख़िर दिल ही में देखा बग़ल ही में से तू निकला

ख़जिल अपने गुनाहों से हूँ मैं याँ तक कि जब रोया
तो जो आँसू मिरी आँखों से निकला सुर्ख़-रू निकला

घिसे सब नाख़ुन-ए-तदबीर और टूटी सर-ए-सोज़ान
मगर था दिल में जो काँटा न हरगिज़ वो कभू निकला

उसे अय्यार पाया यार समझे ‘ज़ौक़’ हम जिस को
जिसे याँ दोस्त अपना हम ने जाना वो उदू निकला

Read More...

koi mohabbat na kre to kya kare Hindi Ghazal | Urdu Ghazal – Ghazal.

कोई इन तंग-दहानों से मोहब्बत न करे
और जो ये तंग करें मुँह से शिकायत न करे

इश्क़ के दाग़ को दिल मोहर-ए-नबूवत समझा
डर है काफ़िर कहीं दावा-ए-नबूवत न करे

है जराहत का मिरी सौदा-ए-अल्मास इलाज
फ़ाएदा उस को कभी संग-ए-जराहत न करे

हर क़दम पर मिरे अश्कों से रवाँ है दरिया
क्या करे जादा अगर तर्क-ए-रिफ़ाक़त न करे

आज तक ख़ूँ से मिरे तर है ज़बान-ए-ख़ंजर
क्या करे जब कि तलब कोई शहादत न करे

है ये इंसाँ बड़े उस्ताद का शागिर्द-ए-रशीद
कर सके कौन अगर ये भी ख़िलाफ़त न करे

बिन जले शम्अ के परवाना नहीं जल सकता
क्या बढ़े इश्क़ अगर हुस्न ही सब्क़त न करे

फिर चला मक़्तल-ए-उश्शाक़ की जानिब क़ातिल
सर पे बरपा कहीं कुश्तों के क़यामत न करे

Read More...

Agaz hua hai ulfat ka Hindi Ghazal | Urdu Ghazal – Ghazal.

आग़ाज़ हुआ है उल्फ़त का अब देखिए क्या क्या होना है
या सारी उम्र की राहत है या सारी उम्र का रोना है

शायद था बयाज़-ए-शब में कहीं इक्सीर का नुस्ख़ा भी कोई
ऐ सुब्ह ये तेरी झोली है या दुनिया भर का सोना है

तदबीर के हाथों से गोया तक़दीर का पर्दा उठता है
या कुछ भी नहीं या सब कुछ है या मिटी है या सोना है

टूटे जो ये बंद-ए-हयात कहीं इस शोर-ओ-शर से नजात मिले
माना कि वो दुनिया ऐ ‘अफ़सर’ सिर्फ़ एक लहद का कोना है

Read More...

ashiq ki kya khoob katti hai rate

आशिक़ की भी कटती हैं क्या ख़ूब तरह रातें
दो-चार घड़ी रोना दो-चार घड़ी बातें

क़ुर्बां हूँ मुझे जिस दम याद आती हैं वो बातें
क्या दिन वो मुबारक थे क्या ख़ूब थीं वो रातें

औरों से छुटे दिलबर दिल-दार होवे मेरा
बर-हक़ हैं अगर पैरव कुछ तुम में करामातें

कल लड़ गईं कूचे में आँखों से मिरी आँखियाँ
कुछ ज़ोर ही आपस में दो दो हुईं समघातें

कश्मीर सी जागह में ना-शुक्र न रह ज़ाहिद
जन्नत में तू ऐ गीदी मारे है ये क्यूँ लातें

इस इश्क़ के कूचे में ज़ाहिद तू सँभल चलना
कुछ पेश न जावेंगी याँ तेरी मुनाजातें

उस रोज़ मियाँ मिल कर नज़रों को चुराते थे
तुझ याद में ही साजन करते हैं मदारातें

‘सौदा’ को अगर पूछो अहवाल है ये उस का
दो-चार घड़ी रोना दो-चार घड़ी बातें

Read More...