najar se dil ka gubar utra Urdu Ghazal | Hindi Ghazal – Ghazal.

चमन मैं रंग-ए-बहार उतरा तो मैं ने देखा
नज़र से दिल का ग़ुबार उतरा तो मैं ने देखा

मैं नीम-शब आसमाँ की वुसअ’त को देखता था
ज़मीं पे वो हुस्न-ज़ार उतरा तो मैं ने देखा

गली के बाहर तमाम मंज़र बदल गए थे
जो साया-ए-कू-ए-यार उतरा तो मैं ने देखा

ख़ुमार-ए-मय में वो चेहरा कुछ और लग रहा था
दम-ए-सहर जब ख़ुमार उतरा तो मैं ने देखा

इक और दरिया का सामना था ‘मुनीर’ मुझ को
मैं एक दरिया के पार उतरा तो मैं ने देखा