kuch din se intijaar hai Hindi Ghazal | Urdu Ghazal – Ghazal.

कुछ दिन से इंतिज़ार-ए-सवाल-ए-दिगर में है
वो मुज़्महिल हया जो किसी की नज़र में है

सीखी यहीं मिरे दिल-ए-काफ़िर ने बंदगी
रब्ब-ए-करीम है तू तिरी रहगुज़र में है

माज़ी में जो मज़ा मिरी शाम-ओ-सहर में था
अब वो फ़क़त तसव्वुर-ए-शाम-ओ-सहर में है

क्या जाने किस को किस से है अब दाद की तलब
वो ग़म जो मेरे दिल में है तेरी नज़र में है