Farman-e-Ali

हजरत अली ने फरमाया ।

“जो लोग सिर्फ तुम्हे काम के वक़्त याद करते हे
उन लोगो के काम ज़रूर आओ क्यों के वो
अंधेरो में रौशनी ढूँढ़ते हे और वो रौशनी तुम हो
हज़रत अली

“हमेशा समझोता करना सीखो क्यूंकि थोडा सा झुक जाना
किसी रिश्ते का हमेशा के लिए टूट जाने से बेहतर है हज़रत अली”

“अगर कोई शख्स अपनी भूख मिटाने के लिए रोटी चोरी करे
तो चोर के हाथ काटने के बजाए बादशाह के हाँथ काटे जाए। हज़रत अली…