यह नात ख्वानी का रिवाज भारत, पाकिस्तान और बंगलादेश में आम है। भाशा अनुसार देखें तो, पश्तो, बंगाली, उर्दू और पंजाबी में नात ख्वानी आम है। Naat Sharif नात ख्वां तुर्की, फ़ारसी, अरबी, उर्दू, बंगाली, पंजाबी, अंग्रेज़ी, कश्मीरी और सिंधी भाशाओं में आम है।

नात ए शरीफ़ : (अरबी – نعت) उर्दू और फ़ारसी में नात ए शरीफ़ (نعت شریف) : इस्लामी पद्य साहित्य में एक पद्य रूप है, Naat Sharif  जिस में पैगंबर हज़रत मुहम्मद साहब की तारीफ़ करते लिखी जाती है। इस पद्य रूप को बडे अदब से गाया भी जाता है। अक्सर नात ए शरीफ़ लिखने वाले आम शायर को नात गो शायर कहते हैं और गाने वाले को नात ख्वां कहते हैं।

Hindi Naat Sharef

Khaan ka mansab kahaan ki dolat qasam khuda ki yay he haqiqat
Jinhayn bulaya he mustafa nay wohi madinay ko ja rahay heyn

Naat Sharif Ka Agaz

नात शेरों से बनती हैं। हर शेर में दो पंक्तियां होती हैं। शेर की हर पंक्ति को मिसरा कहते हैं। नात की ख़ास बात यह हैं कि उसका प्रत्येक शेर अपने आप में एक संपूर्ण कविता होता हैं और उसका संबंध नात में आने वाले अगले पिछले अथवा अन्य शेरों से हो, यह ज़रूरी नहीं हैं।

Habeeb e daawar ghareeb parwar Rasool e akram karam kay pekar
Kisi ko dar pay bula rahay heyn kisi ki khuabon mayn a rahay heyn
Meyn apnay khair ul-wara kay sadqay meyn unki shaan e ata kay sadqay
Bhara he ebon say mayra daaman huzur phir bhi nibha rahay heyn