ye raaz kisi ko nahi maloom

ये राज़ किसी को नही मालूम के मोमिन
क़ारी नज़र आता है| हक़ीकत मे है क़ुरान