Teri khusbu se mere dil me khile dard ke phool

तिरी ख़ुश-बू से मिरे दिल में खिले दर्द के फूल
सो गई थी जो बला फिर से जगा दी तू ने