Hum mai-kade se mar ke bhi bahar na jaenge

हम मय-कदे से मर के भी बाहर न जाएँगे
मय-कश हमारी ख़ाक के साग़र बनाएँगे

वो इक कहेंगे हम से तो हम सौ सुनाएँगे
मुँह आएँगे हमारे तो अब मुँह की खाएँगे

कुछ चारासाज़ी नालों ने की हिज्र में मिरी
कुछ अश्क मेरे दिल की लगी को बुझाएँगे

वो मिस्ल-ए-अश्क उठ नहीं सकता ज़मीन से
जिस को हुज़ूर अपनी नज़र से गिराएँगे

झोंके नसीम-ए-सुब्ह के आ आ के हिज्र में
इक दिन चराग़-ए-हस्ती-ए-आशिक़ बुझाएँगे

सहरा की गर्द होगी कफ़न मुझ ग़रीब का
उठ कर बगूले मेरा जनाज़ा उठाएँगे

अब ठान ली है दिल में कि सर जाए या रहे
जैसे उठेगा बार-ए-मोहब्बत उठाएँगे

गर्दिश ने मेरी चर्ख़ का चकरा दिया दिमाग़
नालों से अब ज़मीं के तबक़ थरथराएँंगे

‘बेदम’ वो ख़ुश नहीं हैं तो अच्छा यूँही सही
ना-ख़ुश ही हो के ग़ैर मिरा क्या बनाएँगे

Read More...

Parde uThe hue bhi hain unki idhar nazar bhi hai

पर्दे उठे हुए भी हैं उन की इधर नज़र भी है
बढ़ के मुक़द्दर आज़मा सर भी है संग-ए-दर भी है

जल गई शाख़-ए-आशियाँ मिट गया तेरा गुल्सिताँ
बुलबुल-ए-ख़ानुमाँ-ख़राब अब कहीं तेरा घर भी है

अब न वो शाम शाम है अपनी न वो सहर सहर
होने को यूँ तो रोज़ ही शाम भी है सहर भी है

चाहे जिसे बनाइए अपना निशाना-ए-नज़र
ज़द पे तुम्हारे तीर के दिल भी है और जिगर भी है

दिन को उसी से रौशनी शब को उसी से चाँदनी
सच तो ये है कि रू-ए-यार शम्स भी है क़मर भी है

ज़ुल्फ़-ब-दोश बे-नक़ाब घर से निकल खड़े हुए
अब तो समझ गए हुज़ूर नालों में कुछ असर भी है

‘बेदम’-ए-ख़स्ता का मज़ार आप तो चल के देखिए
शम्अ बना है दाग़-ए-दिल बेकसी नौहागर भी है

Read More...

Apni hasti ka agar husn numayan ho jae

अपनी हस्ती का अगर हुस्न नुमायाँ हो जाए
आदमी कसरत-ए-अनवार से हैराँ हो जाए

तुम जो चाहो तो मिरे दर्द का दरमाँ हो जाए
वर्ना मुश्किल है कि मुश्किल मिरी आसाँ हो जाए

ओ नमक-पाश तुझे अपनी मलाहत की क़सम
बात तो जब है कि हर ज़ख़्म नमकदाँ हो जाए

देने वाले तुझे देना है तो इतना दे दे
कि मुझे शिकवा-ए-कोताही-ए-दामाँ हो जाए

उस सियह-बख़्त की रातें भी कोई रातें हैं
ख़्वाब-ए-राहत भी जिसे ख़्वाब-ए-परेशाँ हो जाए

सीना-ए-शिबली-ओ-मंसूर तो फूँका तू ने
इस तरफ़ भी करम ऐ जुम्बिश-ए-दामाँ हो जाए

आख़िरी साँस बने ज़मज़मा-ए-हू अपना
साज़-ए-मिज़राब-ए-फ़ना तार-ए-रग-ए-जाँ हो जाए

तू जो असरार-ए-हक़ीक़त कहीं ज़ाहिर कर दे
अभी ‘बेदम’ रसन-ओ-दार का सामाँ हो जाए

Read More...

Apne dīdār kī hasrat meñ tū mujh ko sarāpā dil kar de

अपने दीदार की हसरत में तू मुझ को सरापा दिल कर दे
हर क़तरा-ए-दिल को क़ैस बना हर ज़र्रे को महमिल कर दे

दुनिया-ए-हुस्न-ओ-इश्क़ मिरी करना है तो यूँ कामिल कर दे
अपने जल्वे मेरी हैरत नज़्ज़ारे में शामिल कर दे

याँ तूर ओ कलीम नहीं न सही मैं हाज़िर हूँ ले फूँक मुझे
पर्दे को उठा दे मुखड़े से बर्बाद सुकून-ए-दिल कर दे

गर क़ुल्ज़ुम-ए-इश्क़ है बे-साहिल ऐ ख़िज़्र तो बे-साहिल ही सही
जिस मौज में डूबे कश्ती-ए-दिल उस मौज को तू साहिल कर दे

ऐ दर्द अता करने वाले तू दर्द मुझे इतना दे दे
जो दोनों जहाँ की वुसअत को इक गोशा-ए-दामन-ए-दिल कर दे

हर सू से ग़मों ने घेरा है अब है तो सहारा तेरा है
मुश्किल आसाँ करने वाले आसान मिरी मुश्किल कर दे

‘बेदम’ उस याद के मैं सदक़े उस दर्द-ए-मोहब्बत के क़ुर्बां
जो जीना भी दुश्वार करे और मरना भी मुश्किल कर दे

Read More...

Agar marte huye lov par na tera naam aayega

अगर मरते हुए लब पर न तेरा नाम आएगा
तो मैं मरने से दर-गुज़रा मिरे किस काम आएगा

उसे भी ठान रख साक़ी यक़ीं होगा न रिंदों को
अगर ज़ाहिद पहन कर जामा-ए-एहराम आएगा

शब-ए-फ़ुर्क़त में दर्द-ए-दिल से मैं उस वास्ते ख़ुश हूँ
ज़बाँ पर रात भर रह रह के तेरा नाम आएगा

लगी हो कुछ तो क़ासिद आख़िर इस कम-बख़्त दिल में भी
वहाँ तेरी तरह जो जाएगा नाकाम आएगा

इसी उम्मीद में बाँधे हुए हैं टकटकी मय-कश
कफ़-ए-नाज़ुक पे साक़ी रख के इक दिन जाम आएगा

यहाँ अपनी पड़ी है तुझ से ऐ ग़म-ख़्वार क्या उलझूँ
ये कौन आराम है मर जाऊँ तब आराम आएगा

ज़हे इज़्ज़त जो हो इस बज़्म में मज़कूर ऐ वाइज़
बला से गर गुनहगारों में अपना नाम आएगा

हज़ार इंकार या क़त-ए-तअल्लुक़ उस से कर नासेह
मगर हिर-फिर के होंटों पर उसी का नाम आएगा

अता की जब कि ख़ुद पीर-ए-मुग़ाँ ने पी भी ले ज़ाहिद
ये कैसा सोचना है तुझ पे क्यूँ इल्ज़ाम आएगा

पड़ा है सिलसिला तक़दीर का सय्याद के बस में
चमन में ऐ सबा क्यूँकर असीर-ए-दाम आएगा

कोई बदमस्त को देता है साक़ी भर के पैमाना
तिरा क्या जाएगा मुझ पर अबस इल्ज़ाम आएगा

उन्हें देखेगी तू ऐ चश्म-ए-हसरत वस्ल में या मैं
तिरे काम आएगा रोना कि मेरे काम आएगा

हमेशा क्या पियूँगा मैं इसी कोहना-सिफ़ाली मैं
मिरे आगे कभी तो साग़र-ए-ज़रफ़ाम आएगा

कहाँ से लाऊँ सब्र-ए-हज़रत-ए-अय्यूब ऐ साक़ी
ख़ुम आएगा सुराही आएगी तब जाम आएगा

छुरी थी कुंद तेरी या तिरे क़ातिल की ओ बिस्मिल
तड़प भी तू तिरी गर्दन पे क्यूँ इल्ज़ाम आएगा

यही कह कर अजल को क़र्ज़-ख़्वाहों की तरह टाला
कि ले कर आज क़ासिद यार का पैग़ाम आएगा

हमेशा क्या यूँ ही क़िस्मत में है गिनती गिना देना
कोई नाला न लब पर लाइक़-ए-अंजाम आएगा

गली में यार की ऐ ‘शाद’ सब मुश्ताक़ बैठे हैं
ख़ुदा जाने वहाँ से हुक्म किस के नाम आएगा

Read More...

Har gosha-e-nazar meñ samāe hue ho tum

har gosha-e-nazar meñ samāe hue ho tum
jaise ki mire sāmne aae hue ho tum

merī nigāh-e-shauq pe chhāe hue ho tum
jalvoñ ko ḳhud hijāb banāe hue ho tum

kyuuñ ik taraf nigāh jamāe hue ho tum
kyā raaz hai jo mujh se chhupāe hue ho tum

dil ne tumhāre husn ko baḳhshī haiñ rifateñ
dil ko magar nazar se girāe hue ho tum

ye jo niyāz-e-ishq kā ehsās hai tumheñ
shāyad kisī ke naaz uThāe hue ho tum

yā mehrbāniyoñ ke hī qābil nahīñ huuñ maiñ
yā vāqaī kisī ke sikhā.e hue ho tum

ab imtiyāz-e-parda-o-jalva nahīñ mujhe
chehre se kyuuñ naqāb uThāe hue ho tum

uf re sitam ‘shakīl’ ye hālat to ho gaī
ab bhī karam kī aas lagāe hue ho tum

Read More...

Insa Ke Bas Ka Kaam Nhi

अल्लाह अगर तौफ़ीक़ न दे इन्सान के बस का काम नहीं
फ़ैज़ाने-मोहब्बत आम सही, इर्फ़ाने-मोहब्बत आम नहीं

ये तूने कहा क्या ऐ नादाँ फ़ैयाज़ी-ए-क़ुदरत आम नहीं
तू फ़िक्रो-नज़र तो पैदाकर, क्या चीज़ है जो इनआम नहीं

यारब ये मुकामे-इश्क़ है क्या गो दीदा-ओ-दिल नाकाम नहीं
तस्कीन है और तस्कीन नहीं आराम है और आराम नहीं

आना है जो बज़्मे-जानाँ में पिन्दारे-ख़ुदी को तोड़ के आ
ऐ होशो-ख़िरद के दीवाने याँ होशो-ख़िरद का काम नहीं

इश्क़ और गवारा ख़ुद कर ले बेशर्त शिकस्ते-फ़ाश अपनी
दिल की भी कुछ उनके साज़िश है तन्हा ये नज़र का काम नहीं

सब जिसको असीरी कहते हैं वो तो है असीरी ही लेकिन
वो कौन-सी आज़ादी है जहाँ, जो आप ख़ुद अपना दाम नहीं

Read More...

Ishq me Lazabaab Hai Hum Log

इश्क़ में लाजवाब हैं हम लोग
माहताब आफ़ताब हैं हम लोग

गर्चे अहल-ए-शराब हैं हम लोग
ये न समझो ख़राब हैं हम लोग

शाम से आ गये जो पीने पर
सुबह तक आफ़ताब हैं हम लोग

नाज़ करती है ख़ाना-वीरानी
ऐसे ख़ाना- ख़राब हैं हम लोग

तू हमारा जवाब है तनहा
और तेरा जवाब हैं हम लोग

ख़ूब हम जानते हैं क़द्र अपनी
कितने नाकामयाब हैं हम लोग

हर हक़ीक़त से जो गुज़र जायेँ
वो सदाक़त-म’आब हैं हम लोग

जब मिली आँख होश खो बैठे
कितने हाज़िर-जवाब हैं हम लोग

Read More...

Kaha se badke pauche h kaha tak eilm-o-fun saki

कहाँ से बढ़कर पहुँचे हैं कहाँ तक इल्म-ओ-फ़न साक़ी
मगर आसूदा इनसाँ का न तन साक़ी न मन साक़ी

ये सुनता हूँ कि प्यासी है बहुत ख़ाक-ए-वतन साक़ी
ख़ुदा हाफ़िज़ चला मैं बाँधकर सर से कफ़न साक़ी

सलामत तू तेरा मयख़ाना तेरी अंजुमन साक़ी
मुझे करनी है अब कुछ खि़दमत-ए-दार-ओ-रसन साक़ी

रग-ओ-पै में कभी सेहबा ही सेहबा रक़्स करती थी
मगर अब ज़िन्दगी ही ज़िन्दगी है मोजज़न साक़ी

न ला विश्वास दिल में जो हैं तेरे देखने वाले
सरे मक़तल भी देखेंगे चमन अन्दर चमन साक़ी

तेरे जोशे रक़ाबत का तक़ाज़ा कुछ भी हो लेकिन
मुझे लाज़िम नहीं है तर्क-ए-मनसब दफ़अतन साक़ी

अभी नाक़िस है मयआर-ए-जुनु, तनज़ीम-ए-मयख़ाना
अभी नामोतबर है तेरे मसतों का चलन साक़ी

वही इनसाँ जिसे सरताज-ए-मख़लूक़ात होना था
वही अब सी रहा है अपनी अज़मत का कफ़न साक़ी

लिबास-ए-हुर्रियत के उड़ रहे हैं हर तरफ़ पुरज़े
लिबास-ए-आदमीयत है शिकन अन्दर शिकन साक़ी

मुझे डर है कि इस नापाकतर दौर-ए-सियासत में
बिगड़ जाएँ न खुद मेरा मज़ाक़-ए-शेर-ओ-फ़न साक़ी

Read More...